भारत की अवस्थिति एवं विस्तार | भूगोल (भारतीय भूगोल )

Spread the love

भारत की अवस्थिति एवं विस्तार | भूगोल (भारतीय भूगोल ) भारत की सभ्यता एवं संस्कृति का विकास सिंधु घाटी सभ्यता से माना जाता है, जो आपने विशाल साम्राज्यों,व्यापार,सांस्कृतिक विकास व आर्थिक सफलताओं के लिए  माना जाता है।

उत्तर भारत में बस्ने वाले आर्यों के नाम पर इस देश का नाम आर्यावर्त पड़ा । आर्यों के शक्तिशाली राजा भरत के नाम पर इस देश का नाम भारत पड़ा ।

भारत की अवस्थिति एवं विस्तार | भूगोल (भारतीय भूगोल )

 

वैदिक आर्यों का निवास स्थान सिंधु नदी घाटी में था , इरानियों ने इस नदी को हिन्दू नदी कहा एवं इस देश को हिंदुस्तान कहा। यूनानियों ने सिंधु नदी को इंडस एवं इस देश को इंडिया कहा ।

Table of Contents

भारत की अवस्थिति एवं विस्तार | भूगोल (भारतीय भूगोल ): अवस्थिति एवं विस्तार

एशिया महाद्वीप के दक्षिण मध्य भाग में स्थित भारत विविधताओं का देश है । इस देश के उत्तर में ऊँचे हिमालय पर्वत मध्य में विशाल नदी द्रोणियाँ,उत्तर पूर्वी की तरफ दक्षिण भाग में वन से आच्छादित पहाड़ियाँ एवं उत्तर पश्चिम में रेतीले भूमि मरुस्थलोक विस्तार है ।

भारत की अवस्थिति एवं विस्तार | भूगोल (भारतीय भूगोल ) : भारत के पड़ोसी देश –

भारतीय उप महाद्वीप के अंतर्गत पड़ोसी देश है –

भारत, बांगलादेश, भूटान, नेपाल, मालदीव, श्रीलंका, एवं पाकिस्तान सहित कुल सात देश है ।

क्षेत्रफल की दृष्टि भारत देश का स्थान –

रूस > कनाडा > संयुक्त राज्य अमेरिका > चीन > ब्राजील >आस्ट्रेलिया > भारत है ।

भारत का अक्षांशीय एवं देशांतरीय विस्तार –

  • यह देश अक्षांशीय एवं देशांतरीय के दृष्टि से उत्तरी गोलार्द्ध एवं दक्षिणी गोलार्द्ध में स्थित है ।
  • अक्षांशीय – भारत की मुख्य भूमि दक्षिण से 84 से 376 उत्तरी अक्षांश तक विस्तृत है ।
  • देशांतरीय विस्तार – भारत पश्चिम से पूर्व 687से 9725 पूर्वी देशान्तरों के मध्य स्थित है।
  • इंडिया  का उत्तरी बिन्दु इंदिरा कॉल 376 उत्तरी अक्षांश है, जो लद्दाख में स्थित है।
  • भारत की मुख्य भूमि का दक्षिण बिन्दु कन्याकुमारी या केप कमोरिन अंतरीप(84उत्तरी अक्षांश) है। जो तमिलनाडु राज्य में स्थित है ।
  • भारत का सबसे दक्षिणी बिन्दु इंदिरा प्वाइंट है, जो अंडमान निकोंबार द्वीप समूह के ग्रेट निकोंबार द्वीप का दक्षिणी बिन्दु ( 645 उत्तरी अक्षांश)है । इस बिन्दु को पूर्व में पिग्मेलियन प्वाइंट या पारसन प्वाइंट कहा जाता था ।

देश के चारों अंतिम सीमा बिन्दु –

  • दक्षिणतम बिन्दु – इंदिरा प्वाइंट ( ग्रेट निकोंबार द्वीप)
  • उत्तरी बिन्दु – इंदिरा कॉल ( लद्दाख )
  • पश्चिमोत्तर बिन्दु – गौरमोता (गुजरात )
  • पूर्वोत्तर बिन्दु – किबिथु ( अरुणाचल प्रदेश)

अक्षांशीय और देशांतरीय विस्तार का प्रभाव –

  • भारत का अक्षांशीय और देशांतरीय विस्तार लगभग समान(30) है,परंतु भूमि पर वास्तविक दूरी समान नहीं है।
  • भारत की मुख्य भूमि की आकृति चतुष्कोणीय है।

अक्षांशीय विस्तार का प्रभाव –

कर्क रेखा या 231/2० उत्तरी अक्षांश

  • यह अक्षांश रेखा भारत देश के लगभग ८ राज्यों ( गुजरात,राजस्थान,मध्य प्रदेश,छत्तीसगढ़,झारखंड की राजदानी रांची, पश्चिम बंगाल,त्रिपुरा एवं मिजोरम) से होकर गुजरती है।
  • कर्क रेखा भारत को लगभग दो बराबर ( उत्तरी एवं दक्षिणी) भागों में विभाजित करती है ।
  • भारत देश में कर्क रेखा का दक्षिणी भाग उष्ण कटिबन्ध एवं उत्तरी भाग उपोषण कटिबंध कहलाता है।

देशांतरीय रेखा के विस्तार का प्रभाव –

  • 821/2पूर्वी देशान्तर प्रयागराज(इलाहाबाद) के निकट मिर्जापुर से होकर गुजरती है
  • इस रेखा को भारत की मानक देशान्तर रेखा भी कहा जाता है।
  • 821/2पूर्वी देशान्तर रेखा भारत देश के 5 ( उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, ओडिशा एवं आंध्र प्रदेश) राज्यों से होकर गुजरती है ।
  • भारतीय मानक रेखा ग्रीनविच माध्य समय या ग्रीनविच मीन टाइम या 0देशान्तर से 5 घंटे, 30मिनट आगे है ।
  • भारतीय मानक समय के कारण ही भारत में घड़ियाँ सभी जगह एक ही समय बताती है ,जबकि पूर्वोत्तर राज्य अरुणाचल प्रदेश में सूर्योदय गुजरात (कच्छ) की तुलना में लगभग 2 घंटे पहले होता है।
  • भारत के पश्चिमी बिन्दु गौरमोता(गुजरात) और पूर्वी बिन्दु किबिथु ( अरुणाचल प्रदेश ) के मध्य 30देशान्तर का अंतर है।अतः इन दोनों स्थानों के मध्य 30x4मिनट =120 मिनट अर्थात 2 घंटे हुआ।

भारत की स्थल व तटीय सीमा –

  • भारत की स्थलीय सीमा रेखा की लंबाई 15,200 किमी.।
  • देश की तटीय सीमा रेखा की लंबाई 6,100 किमी. है ।
  • सबसे लंबी तट रेखा वाला राज्य गुजरात है।
  • सबसे छोटी तट रेखा वाला राज्य गोवा है।
  • भारतीय द्वीपों ( अंडमान एवं निकोंबार द्वीप समूह तथा लक्ष्य द्वीप समूह के साथ ) की तटीय सीमा रेखा की लंबाई सम्मिलित करने पर समुद्री तटीय रेखा की कुल लंबाई 7,516.6 किमी. हो जाती है।

भारत के समुद्र तटीय राज्य/संघ शासित प्रदेश

 

राज्य तट रेखा (किमी.)
अंडमान निकोंबार द्वीप समूह 1962 . 00
गुजरात 1214.70
आंध्र प्रदेश 973.70
तमिलनाडु 906.90
महाराष्ट्र 652.60
केरल 569.70
ओडिशा 457
कर्नाटक 280
पश्चिम बंगाल 157.50
लक्षयद्वीप 132.00
गोवा 151.00
पुदुचेरी 31.60
दमन व दीव 27.20
कुल 7516.6

भारतीय राज्यों के साथ सीमा बनाने वाले पड़ोसी देश-

पाकिस्तान के साथ – 1.गुजरात 2. राजस्थान 3. पंजाब 4.जम्मू & कश्मीर

बांग्लादेश के साथ – 1. पश्चिम बंगाल 2. मेघालय 3. असम 4. त्रिपुरा 5. मिजोरम

नेपाल के साथ – 1. उत्तराखंड 2. उत्तर प्रदेश 3. बिहार 4. सिक्किम 5. पश्चिम बंगाल

चीन के साथ – 1. जम्मू & कश्मीर 2. हिमांचल प्रदेश 3. उत्तराखंड 4.सिक्किम 5. अरुणाचल प्रदेश

भूटान के साथ – 1.सिक्किम 2. अरुणाचल प्रदेश 3. असम

बांग्लादेश के साथ – 1.बिहार 2. पश्चिम बंगाल 3. सिक्किम 4. मेघालय 5.त्रिपुरा

अफगानिस्तान के साथ – जम्मू & कश्मीर

भारत के चार राज्य जो तीन देशों के साथ सीमा बनाते है –   

जम्मू & कश्मीर – पाकिस्तान, अफगानिस्तान, चीन

सिक्किम – नेपाल, चीन, भूटान

पश्चिम बंगाल – नेपाल, भूटान, बांग्लादेश

अरुणाचल प्रदेश – भूटान, म्यामार और चीन

भारत के अंतर्राष्ट्रीय सीमाओ के नाम –

डूरण्ड रेखा – पाकिस्तान और अफगानिस्तान के मध्य ( 1947 के पहले भारत और अफगानिस्तान के मध्य)

मैकमोहन रेखा – अरुणाचल प्रदेश और चीन के बीच

रेड़किलफ रेखा – भारत और पाकिस्तान के मध्य ( 15 अगस्त 1947) को अस्तित्व में आई ।

भारत एक दृष्टि में –

  • देश – भारत
  • अन्य नाम – आर्यावर्त,जम्बू द्वीप,भारतवर्ष,हिंदुस्तान, इंडिया आदि ।
  • राजधानी – नई दिल्ली
  • भौगोलिक स्थित – उत्तरी पूर्वी गोलार्द्ध में
  • अक्षांशीय विस्तार – 84 से 376 उत्तरी अक्षांश तक विस्तृत है ।
  • देशांतरीय विस्तार – 687से 9725 पूर्वी देशान्तरों के मध्य स्थित है।
  • मानक समय – 821/2पूर्वी देशान्तर
  • भौगोलिक विस्तार – 1. (लंबाई – उत्तर से दक्षिण – 3214 किमी.) 2. (चौड़ाई – पूर्व से पश्चिम – 2933 किमी.)
  • स्थलीय सीमा – 15106.7 किमी.
  • जलीय सीमा – 7516.6 किमी.
  • प्रादेशिक जलसीमा – समुद्र तट से 12 समुद्री मील तक
  • सलंगन क्षेत्र – प्रादेशिक जल सीमा से आगे 24 समुद्री मील तक ।
  • अनन्य आर्थिक क्षेत्र – संलग्न क्षेत्र से आगे 200 समुद्री मील तक ।
  • जलवायु – मानसूनी जलवायु
  • क्षेत्रफल – 32,87,263 वर्ग किमी.
  • विश्व के कुल क्षेत्रफल में – 2.42%
  • क्षेत्रफल की दृष्टि से विश्व में स्थान – 7 वाँ
  • कुल जनसंख्या – 1,21,05,69,573
  • विश्व की कुल जनसंख्या का – 17.5%
  • जनसंख्या की दृष्टि से विश्व में स्थान – द्वितीय
  • पुरुष जनसंख्या – 62,31,21,843
  • महिला जनसंख्या – 58,74,47,730
  • ग्रामीण जनसंख्या -83.34 करोड़
  • शहरी जनसंख्या – 37.71 करोड़
  • दशकीय जनसंख्या वृद्धि दर – 17.7%
  • लिंगनुपात – 943 प्रति हजार
  • जनसंख्या घनत्व – 382 व्यक्ति/वर्ग किमी
  • कुल साक्षरता – 73.0 %
  • पुरुष साक्षरता –80.9%
  • महिला साक्षरता– 64.6%
  • अनुसूचितजाति जनसंख्या – 20,13,78,086 (कुल जनसंख्या का 16.6%)
  • अनुसूचित जाति जनसंख्या – 10,42,81,034(कुल जनसंख्या का 8.6%)
  • राज्यों की संख्या – 29
  • केंद्र शासित प्रदेशों की संख्या – 7
  • ज्यामितीय आकार – चतुष्कोणीय
  • पर्वतीय क्षेत्र का विस्तार – 10.7%
  • पहाड़ी क्षेत्र का विस्तार – 18.6%
  • पठारी क्षेत्र का विस्तार – 27.7%
  • मैदानी क्षेत्र का विस्तार – 43.0%
  • अन्तराष्ट्रीय सीमा वाले राज्य -17
  • तेलशोधनशालाओं की संख्या – 22
  • राष्ट्रीय राजमार्गों की संख्या – 266
  • बड़े बंदरगाहों की संख्या – 13
  • राष्ट्रीय पशु – बाघ
  • राष्ट्रीय विरासत पशु –हाथी
  • राष्ट्रीय पक्षी – मोर
  • राष्ट्रीय वृक्ष –बरगद
  • राष्ट्रीय पुष्प – कमल
  • राष्ट्रीय चिन्ह –अशोक स्तम्भ
  • राष्ट्रीय गान – जन-गण-मन
  • राष्ट्रीय गीत – वन्देमातरम
  • राष्ट्रीय भाषा – हिन्दी
  • राष्ट्रीय लिपि – देवनागरी
  • राष्ट्रीय वाक्य – सत्यमेव जयते
  • राष्ट्रीय ध्वज –तिरंगा
  • राष्ट्रीय नदी – गंगा
  • राष्ट्रीय जलीय जीव – डॉल्फिन

आप इसे भी पढ़ें –

हिमालय पर्वत शृंखला एवं संबंधित राज्य

भारतीय चट्टानों का वर्गीकरण


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *