Animal cell and plant cell diagram 

Animal cell and plant cell diagram 

कोशिका(Cell) ,सजीव शरीर के रचनात्मक,संरचनात्मक तथा क्रियात्मक इकाई को कोशिका कहते है|

कोशिका की खोज(Discovery of  Cell) : Animal cell and plant cell diagram 

कोशिका की खोज सर्वप्रथम राबर्ट हुक ने 1665 मे स्वनिर्मित सूक्ष्मदर्शी की सहायता से कार्क की पतली स्लाइडर मे की थी|

Animal cell and plant cell diagram 

Animal cell and plant cell diagram 
Biology diagram show structure of animal and plant cell

कोशिका सिद्धांत(Cell Theory):Animal cell and plant cell diagram : 

मैथिएस सलिडेन(1838) तथा थियोडरस्वॉन(1839) ने कोशिका सिद्धांत प्रतिपादित किया| कोशिका सिद्धांत की मुख्य विशेषता निम्नलिखित है-

1.कोशिकाये जीवों की संरचनात्मक इकाई है |

2.कोशिकाये आनुवंशिकता की भी इकाई है |

कोशिका संरचना(CellStructure):Animal cell and plant cell diagram-:

सूक्ष्मदर्शी से कोशिका का अध्ययन करने पर कोशिका की संरचना तीन भागों मे विभाजित दिखाई पड़ती है

  1. प्लाज्मा झिल्ली(Plajma Membrane)
  2. केन्द्रक(Nucleus)
  3. कोशिकाद्रव्य(Cytoplasm)

ये तीनों भाग अपने वातावरण से क्रिया कर विभिन्न कार्य करते है| पादपों मे प्लाज्मा झिल्ली के बाहर एक मजबूत कोशिका भित्ति भी पाई जाती है|

कोशिका भित्ति (Cell Structure)

कोशिका भित्ति मजबूत,अजीवित,लचीली परत होती है, जो प्लाज्मा झिल्ली के बाहर उपस्थित होती है

कोशिका भित्ति की संरचना(Structure of Cell Wall)

कोशिका भित्ति निम्न तीन परतों की बनी होती है|

बाहरी परत

  • सबसे बाहरी परत मध्य लैमीला होती है जो पेक्टिन की बनी होती है|

प्राथमिक कोशिका भित्ति

  • दूसरी परत पतली तथा लचीली होती है तथा वृद्धि के समय बनती है|

दितीयक कोशिका भित्ति

तीसरी परत दितीयक कोशिका भित्ति  होती है,जो कुछ कोशिकाओ मे पाई जाती है, उदाहरण जाइलम|

कोशिका भित्ति के कार्य(Functions of Cell Wall)

  1. अधिक कोशिकीय दाब होने पर,कोशिका भित्ति,कोशिका को फटने से बचाती है|
  2. यह कोशिका को बाहरी वातावरण मे होने वाले अधिक परिवर्तन से बचाती है,जोकि जन्तु कोशिका मे कम होती है|

 प्लाज्मा झिल्ली अथवा कोशिका झिल्ली(Plasma Membrane or Cell Wall)  

प्रत्येक कोशिका एक बाहरी परत से घिरी होती होती है, जो उसे बाहरी वातावरण से अलग रखती है,उसे प्लाज्मा झिल्ली कहते है|

यह लचीली होती है,जो कार्बनिक अणुओ जैसे लिपिड तथा प्रोटीन की बनी होती है| संरचनात्मक रूप से यह पतली लचीली अर्धपारगम्य या चयनात्मक पारगम्य होती है

प्लाज्मा झिल्ली के कार्ये(Functions of Cell Wall)

  1. यह कोशिका का आकार बनाने मे सहायता करती है तथा कोशिका को यांत्रिक सहारा देती है
  2. प्लाज्मा झिल्ली अर्धपारगम्य होती है,अतः यह कुछ पदार्थों का आगमन करती है कुछ का नहीं| इसलिए इसे वर्णात्मक पारगम्य झिल्ली तथा चयनात्मक पारगम्य भी कहते है|

केन्द्रक(Nucleus)

केन्द्रक की खोज सन 1831 मे राबर्ट ब्राउन ने की थी| केन्द्रक कोशिका के मध्य मे पाया जाता है,जो गोलाकार अथवा अंडाकार होता है| इसे कोशिका का मस्तिष्क माना जाता है|

केन्द्रक के भाग निम्न है,

  1. केन्द्रक झिल्ली(Nuclear Membrane)
  2. केन्द्रकद्रव्य(Nucleoplasm)
  3. केंद्रिका(Nucleolus)
  4. गुणसूत्र(Chromosomes)

 

कोशिकाद्रव्य(Cytoplasm)

कोशिकाद्रव्य एक तरल पदार्थ होता है,जो कोशिका झिल्ली से घिरा रहता है कोशिकाद्रव्य मे बहुत से अकार्बनिक पदार्थ(खनिज,लवण तथा जल) एवं कार्बनिक पदार्थ(कार्बोहाइड्रेड, प्रोटीन तथा वसा) पाए जाते है| कोशिकाद्रव्य मे कोशिकांग भी पाए जाते है

कोशिका के प्रकार(Types of Cell)

संरचना के आधार पर कोशिका को दो प्रकार की कोशिकाओ मे बाँटा गया है

1.प्रोकैरियोटिक कोशिकाए (Prokaryotic Cell)

प्रोकैरियोटिक का शाब्दिक अर्थ पूर्व केन्द्रक है| ये सरल जीव होते है| इनके केन्द्रक के ऊपर केन्द्रक झिल्ली नहीं पाई जाती है तथा केवल क्रोमैटिन पदार्थ पाया जाता है| अतः इनके केन्द्रक को केन्द्रकाय कहते है| प्रोकैरियोटिक कोशिकाओ मे अन्य कोशिकांग अनुपस्थित होते है|उदाहरण-बैक्टीरिया|

  यूकैरियोटिक कोशिकाए(Eukaryotic cell)

यूकैरियोटिक कोशिका समस्त जन्तु,पादप तथा यीस्ट मे पाई जाती है| ये कोशिका से अधिक जटिल होती है इनका केन्द्रक दोहरी झिल्ली द्वारा कोशिकाद्रव्य से प्रथक रहता है ये जन्तु कोशिका प्रोटिस्ट,कवक,पादप मे पाई जाती है|

प्रोकैरियोटिक एवं यूकैरियोटिक कोशिका मे अंतर

प्रोकैरियोटिक कोशिका

  1. इसमे 70S प्रकार का राइबोसोम पाया जाता है|
  2. इसमे कोशिका भित्ति नहीं पाई जाती है|
  3. इसमे केन्द्रक कला तथा केंद्रिका अनुपस्थित होते है|
  4. इसमे रिक्तिका नहीं पाई जाती है|
  5. इसमे श्वसन प्लाज्मा झिल्ली मे होता है|
  6. इसमे एक गुणसूत्र पाया जाता है|

यूकैरियोटिक कोशिका

  1. इसमे 80S प्रकार का राइबोसोम होता है|
  2. इसमे कोशिका भित्ति पाई जाती है|
  3. इसमे केन्द्रक कला तथा केंद्रिका उपस्थित होते है|
  4. इसमे रिक्तिका नहीं पाई जाती है|
  5. इसमे श्वसन मैट्रोकोन्ड्रिया के द्वारा होता।
  6. इसमे एक से अधिक गुणसूत्र पाए जाते है|

यूकैरियोटिक कोशिकाओ को जन्तु एवं पादप कोशिकाओ मे विभाजित किया जाता है-

जन्तु एवं पादप कोशिकाओ मे अंतर

  1. जन्तु कोशिका के ऊपर कोशिका भित्ति नहीं पाई जाती है|
  2. इसमे केन्द्रक कोशिका के बीच मे होता है|
  3. इसमे हरित लवक नहीं पाया जाता है|
  4. इसमे रिक्तिका छोटी तथा संख्या मे अधिक होती है

Plant Cell  (पादप कोशिका)

1.जन्तु कोशिका के ऊपर सेलुलोज की बनी कोशिका भित्ति  होती है|

2.इसमे केन्द्रक एक तरफ होता है|

  1. इसमे हरित लवक पाया जाता है|
  2. इसमे रिक्तिका बड़ी संख्या मे कम होते है।

आप इसे भी पढ़ें –

विटामिन कितने प्रकार के होते है

स्मृति मंधाना क्रिकेटर

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *